Sunday, May 31, 2015

माँ


माँ

माँ होती हैं बहुत ही खास
हर सुख दुख में देती साथ
कहने को एक जन्म का नाता हैं
लेकिन सादियों तक कोई भूल ना पाता है
माँ होती हैं बहुत ही खास
कर देती हर संकट को साफ यह मुझको विश्वास
बहुत खुशनसीब होते है वह
रहती माँ हरदम जिसके पास
बदकिस्मत लोगों से यह सुख जाता
जन्मदायिनी के कर्ज को कोई ना चुका पाता
लेकिन क्या सिर्फ जन्मदायिनी माँ होती
यह तो दिल से दिल का नाता हैं
जो हर रिश्ते से बढ़ कर
काश जन्मदायिनी से बढ़ कर जिसको माना
उस माँ का दिल भी मुुझको कभी भूल ना पाता
माँ होती हैं बहुत ही खास 
                                                                साधना श्रीवास्तव 

2 comments: